" मेरा पूरा प्रयास एक नयी शुरुआत करने का है। इस से विश्व- भर में मेरी आलोचना निश्चित है. लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता "

"ओशो ने अपने देश व पूरे विश्व को वह अंतर्दॄष्टि दी है जिस पर सबको गर्व होना चाहिए।"....... भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री, श्री चंद्रशेखर

"ओशो जैसे जागृत पुरुष समय से पहले आ जाते हैं। यह शुभ है कि युवा वर्ग में उनका साहित्य अधिक लोकप्रिय हो रहा है।" ...... के.आर. नारायणन, भारत के भूतपूर्व राष्ट्रपति,

"ओशो एक जागृत पुरुष हैं जो विकासशील चेतना के मुश्किल दौर में उबरने के लिये मानवता कि हर संभव सहायता कर रहे हैं।"...... दलाई लामा

"वे इस सदी के अत्यंत अनूठे और प्रबुद्ध आध्यात्मिकतावादी पुरुष हैं। उनकी व्याख्याएं बौद्ध-धर्म के सत्य का सार-सूत्र हैं।" ....... काज़ूयोशी कीनो, जापान में बौद्ध धर्म के आचार्य

"आज से कुछ ही वर्षों के भीतर ओशो का संदेश विश्वभर में सुनाई देगा। वे भारत में जन्में सर्वाधिक मौलिक विचारक हैं" ..... खुशवंत सिंह, लेखक और इतिहासकार

प्रकाशक : ओशो रजनीश | रविवार, अक्तूबर 24, 2010 | 32 टिप्पणियाँ

"तुम्हें बस यह चाहिये कि तुम मौन हो जाओ और अस्तित्व को सुनो। न किसी धर्म की ज़रूरत है न किसी

परमात्मा की। न किसी धर्मगुरु की ज़रूरत है न किसी संस्था की। व्यक्ति में मेरा पूर्ण विश्वास है।

आज तक व्यक्ति में इस तरह किसी ने विश्वास नहीं किया। तो इन सब बातों को हटाया

जा सकता है। अब तुम्हारे पास बची है केवल ध्यान की अवस्था, जिसका

अर्थ है पूर्ण मौन। ध्यान शब्द भी इसे बोझीला बना देता है।

बेहतर है इसे सरल, निर्दोष मौन कहें।"

ओशो

32 पाठको ने कहा ...

  1. manu says:

    किसी धर्म की ज़रूरत है न किसी परमात्मा की
    प्रकाशक : ओशो रजनीश | Sunday, October 24, 2010 | 1 टिप्पणियाँ

    "तुम्हें बस यह चाहिये कि तुम मौन हो जाओ और अस्तित्व को सुनो। न किसी धर्म की ज़रूरत है न किसी

    परमात्मा की। न किसी धर्मगुरु की ज़रूरत है न किसी संस्था की। व्यक्ति में मेरा पूर्ण विश्वास है।

    आज तक व्यक्ति में इस तरह किसी ने विश्वास नहीं किया। तो इन सब बातों को हटाया

    जा सकता है। अब तुम्हारे पास बची है केवल ध्यान की अवस्था, जिसका

    अर्थ है पूर्ण मौन। ध्यान शब्द भी इसे बोझीला बना देता है।

    बेहतर है इसे सरल, निर्दोष...ha ha ha ha....




    sunder aalekh...

  2. NK Pandey says:

    सुन्दर विचार! बहुत बार पढ़ा है ओशो को पढ़ना बहुत अच्छा लगता है।
    धन्यवाद।

  3. इस ब्लॉग पर आकर हमेशा कुछ नया मिलता है ....

  4. Akhilesh says:

    बढ़िया विचार ...

  5. सुन्दर शब्द में कही गयी अच्छी बात

  6. कम शब्दों में कही गयी अच्छी बात

  7. न किसी धर्म की ज़रूरत है न किसी
    परमात्मा की। न किसी धर्मगुरु की ज़रूरत है
    न किसी संस्था की। व्यक्ति में मेरा पूर्ण विश्वास है।

    बढ़िया

  8. sanu shukla says:

    आशा है ओशो का आशिर्वाद इसी प्रकार मिलता रहेगा।
    हम आभारी है आपके, ओशो के विचारों को हमतक पहुंचाने के लिये।

  9. ओशो के शब्दों को सुन कर एक अलग सी उर्जा का अनुभव होता है ...

  10. बेनामी says:

    nice words.......

  11. M.R.Ghori says:

    न किसी धर्म की ज़रूरत है न किसी
    परमात्मा की। न किसी धर्मगुरु की ज़रूरत है
    न किसी संस्था की। व्यक्ति में मेरा पूर्ण विश्वास है।

    बढ़िया

  12. Vikas Singh says:

    osho is very great in all dharmguru or sant .

  13. Vikas Singh says:

    hindi me theek se nahi likh paa raha hun ..kya aap bata sakte hai ki hindi me kaise likhe

  14. बेनामी says:

    achha likha hai

    aman jeet singh,,

  15. बढ़िया

    # खली को महंगा पड़ सकता है "बिग बॉस"
    # बिग बॉस-4 : राजा व अली की नयी एंट्री
    # चलता रहेगा बिग बॉस, शूटिंग रोकने का नोटिस खारिज
    # 'मुझे भी घर में ले लो बिग बॉस'
    # देखें बेगम के बदलते रूप
    # बाल ठाकरे संग चाय पीने की तमन्ना: नवाजिश अली

  16. # खली को महंगा पड़ सकता है "बिग बॉस"
    # बिग बॉस-4 : राजा व अली की नयी एंट्री
    # चलता रहेगा बिग बॉस, शूटिंग रोकने का नोटिस खारिज
    # 'मुझे भी घर में ले लो बिग बॉस'
    # देखें बेगम के बदलते रूप
    # बाल ठाकरे संग चाय पीने की तमन्ना: नवाजिश अली

  17. Basant Sager says:

    क्या बात है ...... बढ़िया और सुंदर आलेख

  18. बेनामी says:

    cooooooooooooooooooollllllllllllllllllllll

  19. Usman says:

    आप इतना अच्छा कार्य कर रहे है पर आप सबके सामने क्यों नहीं आते .........बढ़िया प्रवचन

  20. Usman says:

    आपका ब्लॉग देख कर आपसे मिलने की इच्छा उत्पन्न होती है पर न तो आपका नाम पता है और न ही कोई फ़ोन ..... यदि आप कभी कश्मीर आये तो मुझसे जरुर मिले ... धन्यवाद

  21. बढ़िया प्रस्तुति ..

  22. ZEAL says:

    बढ़िया प्रवचन

  23. अच्छी सोंच है. लेकिन सही नहीं.

  24. well wisher says:

    अनुकरणीय उदाहरण
    ...मजा तो तब आये कोई सुज्ञा भी ब्लॉग जगत में मिल जाए और सुग्य और सुज्ञा का एक जोड़ /जोड़ा बने ..क्योंकि तोता मैना की कहानी अब पुरानी हो गयी :)
    क्या समझे ?
    This comment is selected as a best comment. Please have a look on this , thanks a lot .

Leave a Reply

कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय संयमित भाषा का इस्तेमाल करे। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी। यदि आप इस लेख से सहमत है तो टिपण्णी देकर उत्साहवर्धन करे और यदि असहमत है तो अपनी असहमति का कारण अवश्य दे .... आभार