" मेरा पूरा प्रयास एक नयी शुरुआत करने का है। इस से विश्व- भर में मेरी आलोचना निश्चित है. लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता "

"ओशो ने अपने देश व पूरे विश्व को वह अंतर्दॄष्टि दी है जिस पर सबको गर्व होना चाहिए।"....... भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री, श्री चंद्रशेखर

"ओशो जैसे जागृत पुरुष समय से पहले आ जाते हैं। यह शुभ है कि युवा वर्ग में उनका साहित्य अधिक लोकप्रिय हो रहा है।" ...... के.आर. नारायणन, भारत के भूतपूर्व राष्ट्रपति,

"ओशो एक जागृत पुरुष हैं जो विकासशील चेतना के मुश्किल दौर में उबरने के लिये मानवता कि हर संभव सहायता कर रहे हैं।"...... दलाई लामा

"वे इस सदी के अत्यंत अनूठे और प्रबुद्ध आध्यात्मिकतावादी पुरुष हैं। उनकी व्याख्याएं बौद्ध-धर्म के सत्य का सार-सूत्र हैं।" ....... काज़ूयोशी कीनो, जापान में बौद्ध धर्म के आचार्य

"आज से कुछ ही वर्षों के भीतर ओशो का संदेश विश्वभर में सुनाई देगा। वे भारत में जन्में सर्वाधिक मौलिक विचारक हैं" ..... खुशवंत सिंह, लेखक और इतिहासकार

प्रकाशक : ओशो रजनीश | सोमवार, अक्तूबर 18, 2010 | 12 टिप्पणियाँ

"मैं तुम्हें अपनी विचारधारा से सहमत करवाने में उत्सुक नहीं हूं - मेरी कोई विचारधारा है भी नहीं। दूसरी बात, मेरा मानना है कि किसी को परिवरतित करने का प्रयत्न ही हिंसा है, यह उसकी निजता में, उसके अनूठेपन में, उसकी स्वतंत्रता में हस्तक्षेप करना है।"

ओशो

12 पाठको ने कहा ...

  1. osho bhaayi aapne khne ko to shi khaa he lekin aapki vichardhara hi kuch itni achchi he ke mujh shit kai logon ka mn usmen bh jane ko krta he. akhtar khan akela kota rajsthan

  2. sanu shukla says:

    बढ़िया बात कही है ओशो ने ..

  3. बहुत सुंदर विचार प्रस्तुत किया है आपने ओशो का

  4. यह भी देखे
    http://malaysiaandindia.blogspot.com/2010/10/blog-post_18.html

  5. आपने अपने ब्लॉग का टेम्पलेट बहुत सुन्दर लगाया है कृपया ऐसा ही कोई सुन्दर टेम्पलेट हमें भी उपलब्ध करवाए ....

  6. Alok Mohan says:

    मै इस बात से सहमत नही
    विचारधारा जानवरों की नही होती
    इंसान है तो विचारवान होगा ही

    स्वतंत्रता हद में होती है हद के बाहर नही

  7. M says:

    अच्छी प्रस्तुति ...

  8. M says:

    यह भी देखे
    http://sawan-m.blogspot.com/2010/10/blog-post_18.html

  9. Bhushan says:

    सही कहा गया है. सुंदर भाव.

  10. anshumala says:

    @"मैं तुम्हें अपनी विचारधारा से सहमत करवाने में उत्सुक नहीं हूं

    अच्छी और सही बात है ये |

Leave a Reply

कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय संयमित भाषा का इस्तेमाल करे। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी। यदि आप इस लेख से सहमत है तो टिपण्णी देकर उत्साहवर्धन करे और यदि असहमत है तो अपनी असहमति का कारण अवश्य दे .... आभार