" मेरा पूरा प्रयास एक नयी शुरुआत करने का है। इस से विश्व- भर में मेरी आलोचना निश्चित है. लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता "

"ओशो ने अपने देश व पूरे विश्व को वह अंतर्दॄष्टि दी है जिस पर सबको गर्व होना चाहिए।"....... भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री, श्री चंद्रशेखर

"ओशो जैसे जागृत पुरुष समय से पहले आ जाते हैं। यह शुभ है कि युवा वर्ग में उनका साहित्य अधिक लोकप्रिय हो रहा है।" ...... के.आर. नारायणन, भारत के भूतपूर्व राष्ट्रपति,

"ओशो एक जागृत पुरुष हैं जो विकासशील चेतना के मुश्किल दौर में उबरने के लिये मानवता कि हर संभव सहायता कर रहे हैं।"...... दलाई लामा

"वे इस सदी के अत्यंत अनूठे और प्रबुद्ध आध्यात्मिकतावादी पुरुष हैं। उनकी व्याख्याएं बौद्ध-धर्म के सत्य का सार-सूत्र हैं।" ....... काज़ूयोशी कीनो, जापान में बौद्ध धर्म के आचार्य

"आज से कुछ ही वर्षों के भीतर ओशो का संदेश विश्वभर में सुनाई देगा। वे भारत में जन्में सर्वाधिक मौलिक विचारक हैं" ..... खुशवंत सिंह, लेखक और इतिहासकार

प्रकाशक : ओशो रजनीश | शुक्रवार, अक्तूबर 15, 2010 | 7 टिप्पणियाँ

परिवर्तन संसार का नियम है, और सभी को समय के साथ अपने को परिवर्तित करना होता, अतः इसी के तहत
अब से इस ब्लॉग पर ओशो द्वारा कहे गए शब्द, जो कि पूरी पोस्ट के रूप में न होकर छोटी - छोटी पंक्तियों के रूप में होंगे, प्रकाशित किये जायेंगे । समय समय पर आपको पूरी पोस्ट भी पढने के लिए मिलेगी ।

ऐसा इसलिए किये जा रहा है क्योंकि इस ब्लॉग पर नई पोस्ट को अपडेट होने में २-३ दिनों तक का वक्त लग जाता है । अतः ओशो द्वारा कहे गए इन शब्दों को आप ऐसा समझे जैसे कोई दैनिक विचार, बस इन विचारो को दिन में ३ या ४ बार भी प्रकाशित किया जा सकता है, इन शब्दों के साथ ओशो के चित्र प्रकाशित नहीं किये जायेंगे । पूर्व की तरह आपको नई पोस्ट भी पढने को मिलती रहेगी ।

आशा है आप लोग इसको पसंद करेंगे और अपना प्यार व् सहयोग बनाये रखेंगे ।

7 पाठको ने कहा ...

  1. सहयोग जरूर बनाये रखेंगे। धन्यवाद।

  2. manu says:

    din mein 3 yaa 4 baar ....!!!


    :(
    :(

  3. चलिए अच्छा है ..... जल्द कुछ नया पढने को मिला करेगा

  4. आशा है ओशो का आशिर्वाद इसी प्रकार मिलता रहेगा।
    हम आभारी है आपके, ओशो के विचारों को हमतक पहुंचाने के लिये।

    प्रणाम

  5. rajesh kumar says:

    बहुत बहुत धन्यवाद आपका

Leave a Reply

कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय संयमित भाषा का इस्तेमाल करे। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी। यदि आप इस लेख से सहमत है तो टिपण्णी देकर उत्साहवर्धन करे और यदि असहमत है तो अपनी असहमति का कारण अवश्य दे .... आभार