" मेरा पूरा प्रयास एक नयी शुरुआत करने का है। इस से विश्व- भर में मेरी आलोचना निश्चित है. लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता "

"ओशो ने अपने देश व पूरे विश्व को वह अंतर्दॄष्टि दी है जिस पर सबको गर्व होना चाहिए।"....... भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री, श्री चंद्रशेखर

"ओशो जैसे जागृत पुरुष समय से पहले आ जाते हैं। यह शुभ है कि युवा वर्ग में उनका साहित्य अधिक लोकप्रिय हो रहा है।" ...... के.आर. नारायणन, भारत के भूतपूर्व राष्ट्रपति,

"ओशो एक जागृत पुरुष हैं जो विकासशील चेतना के मुश्किल दौर में उबरने के लिये मानवता कि हर संभव सहायता कर रहे हैं।"...... दलाई लामा

"वे इस सदी के अत्यंत अनूठे और प्रबुद्ध आध्यात्मिकतावादी पुरुष हैं। उनकी व्याख्याएं बौद्ध-धर्म के सत्य का सार-सूत्र हैं।" ....... काज़ूयोशी कीनो, जापान में बौद्ध धर्म के आचार्य

"आज से कुछ ही वर्षों के भीतर ओशो का संदेश विश्वभर में सुनाई देगा। वे भारत में जन्में सर्वाधिक मौलिक विचारक हैं" ..... खुशवंत सिंह, लेखक और इतिहासकार

प्रकाशक : ओशो रजनीश | शुक्रवार, अक्तूबर 22, 2010 | 10 टिप्पणियाँ

"मैं यहां किन्हीं मुद्दों पर चर्चा करने के लिये नहीं अपितु तुम्हारे भीतर एक विशिष्ट गुणवत्ता

पैदा करने के लिये हूं। मैं तुम्हें कुछ समझाने के लिये नहीं बोल
रहा, मेरा बोलना बस

एक सृजनात्मक घटना है। मेरा बोलना तुम्हें
कुछ समझाने का प्रयास नहीं

वह तो तुम किताबों से भी
समझ सकते हो और इस के अतिरिक्त

लाखों अन्य
तरीकों द्वारा यह संभव है - मैं तो यहां

केवल
तुम्हें रूपांतरित करने के

लिये हूं।"



ओशो

10 पाठको ने कहा ...

  1. sanu shukla says:

    बढ़िया विचार ..

  2. Osho says:

    बहुत बढ़िया .....

  3. Osho says:

    मुझे भी पढ़े
    http://mereosho.blogspot.com/

  4. ्सुन्दर विचार्।

  5. Akhilesh says:

    ज्ञानवर्धक विचार ..

Leave a Reply

कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय संयमित भाषा का इस्तेमाल करे। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी। यदि आप इस लेख से सहमत है तो टिपण्णी देकर उत्साहवर्धन करे और यदि असहमत है तो अपनी असहमति का कारण अवश्य दे .... आभार