" मेरा पूरा प्रयास एक नयी शुरुआत करने का है। इस से विश्व- भर में मेरी आलोचना निश्चित है. लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता "

"ओशो ने अपने देश व पूरे विश्व को वह अंतर्दॄष्टि दी है जिस पर सबको गर्व होना चाहिए।"....... भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री, श्री चंद्रशेखर

"ओशो जैसे जागृत पुरुष समय से पहले आ जाते हैं। यह शुभ है कि युवा वर्ग में उनका साहित्य अधिक लोकप्रिय हो रहा है।" ...... के.आर. नारायणन, भारत के भूतपूर्व राष्ट्रपति,

"ओशो एक जागृत पुरुष हैं जो विकासशील चेतना के मुश्किल दौर में उबरने के लिये मानवता कि हर संभव सहायता कर रहे हैं।"...... दलाई लामा

"वे इस सदी के अत्यंत अनूठे और प्रबुद्ध आध्यात्मिकतावादी पुरुष हैं। उनकी व्याख्याएं बौद्ध-धर्म के सत्य का सार-सूत्र हैं।" ....... काज़ूयोशी कीनो, जापान में बौद्ध धर्म के आचार्य

"आज से कुछ ही वर्षों के भीतर ओशो का संदेश विश्वभर में सुनाई देगा। वे भारत में जन्में सर्वाधिक मौलिक विचारक हैं" ..... खुशवंत सिंह, लेखक और इतिहासकार

प्रकाशक : ओशो रजनीश | सोमवार, दिसंबर 27, 2010 | 4 टिप्पणियाँ

"गौतम बुद्ध अतीत के सब गुरुओं का प्रतिरूप हैं। शिष्य को दूर रखना होगा।

उसे अनुशासन, समादर और आज्ञापालन सीखना होगा। यह एक प्रकार

से आध्यात्मिक ग़ुलामी हुई। मैं नहीं चाहता कि तुम मेरे गुलाम

बनो और मैं नहीं चाह्ता कि तुम मेरा आज्ञापालन करो। मैं

सिर्फ यह चाहता हूं कि तुम मुझे समझो और यदि मेरा

अनुभव प्रमाणिक है और तुम्हारा विवेक उसे समझ

पाता है तो तुम स्वयं ही उसका अनुसरण करोगे।

यह आज्ञापालन न हुआ, मैं तुम्हें कुछ करने को

नहीं कह रहा, मैं सिर्फ तुम्हें समझने के लिये

कह रहा हूं, और फिर तुम्हारा विवेक जहां

तुम्हें ले जाये, तुम उसका अनुसरण

करो। तुम जो भी बनो, मैं प्रसन्न

हूं, बस स्वयं के साथ सच्चे

और ईमानदार रहो।"


ओशो

4 पाठको ने कहा ...

  1. nice....but plzz also post smthng very adjacent with todays' probs, degradations and necessities .

  2. bas swayan ke saath sachche aur imandar raho.
    osho vachan ...anmol ratan.

  3. boletobindas says:

    शीशे के सामने खड़े होने में ही तो परेशानी होती है। इतना कि कई बार कई मुद्दों पर शीशा ही धुंधला दिखाई देने लगता है।

Leave a Reply

कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय संयमित भाषा का इस्तेमाल करे। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी। यदि आप इस लेख से सहमत है तो टिपण्णी देकर उत्साहवर्धन करे और यदि असहमत है तो अपनी असहमति का कारण अवश्य दे .... आभार