" मेरा पूरा प्रयास एक नयी शुरुआत करने का है। इस से विश्व- भर में मेरी आलोचना निश्चित है. लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता "

"ओशो ने अपने देश व पूरे विश्व को वह अंतर्दॄष्टि दी है जिस पर सबको गर्व होना चाहिए।"....... भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री, श्री चंद्रशेखर

"ओशो जैसे जागृत पुरुष समय से पहले आ जाते हैं। यह शुभ है कि युवा वर्ग में उनका साहित्य अधिक लोकप्रिय हो रहा है।" ...... के.आर. नारायणन, भारत के भूतपूर्व राष्ट्रपति,

"ओशो एक जागृत पुरुष हैं जो विकासशील चेतना के मुश्किल दौर में उबरने के लिये मानवता कि हर संभव सहायता कर रहे हैं।"...... दलाई लामा

"वे इस सदी के अत्यंत अनूठे और प्रबुद्ध आध्यात्मिकतावादी पुरुष हैं। उनकी व्याख्याएं बौद्ध-धर्म के सत्य का सार-सूत्र हैं।" ....... काज़ूयोशी कीनो, जापान में बौद्ध धर्म के आचार्य

"आज से कुछ ही वर्षों के भीतर ओशो का संदेश विश्वभर में सुनाई देगा। वे भारत में जन्में सर्वाधिक मौलिक विचारक हैं" ..... खुशवंत सिंह, लेखक और इतिहासकार

प्रकाशक : ओशो रजनीश | शुक्रवार, दिसंबर 10, 2010 | 58 टिप्पणियाँ

"शायद मुझे अब तक सबसे अधिक गलत समझा गया है,

लेकिन इसका मुझपर कोई असर नहीं। कारण केवल इतना

है कि सही समझे जाने की कोई जिज्ञासा नहीं। यदि वे सही

नहीं समझते तो यह उनकी समस्या है, यह मेरी समस्या

नहीं है। यदि वे गलत समझते हैं तो यह उनकी समस्या है,

उनका दुख है। मैं अपनी नींद नहीं खराब करूंगा यदि लाखों

लोग मुझे गलत समझ रहे हैं।"


ओशो

58 पाठको ने कहा ...

  1. galat samajhne se hi koi galat nahi siddh hota. jo sahi hai wah kisi ke dwara galat samjhe jane par dhyan nahi deta.

  2. सच कहने वालो को दुनिया ने हमेशा गलत ही समझा है

  3. मेरे ब्लॉग पर भी आये :-
    http://bigboss-s4.blogspot.com/

  4. # बिग बॉस के घर में डॉली बेहोश
    # बिग बॉस फिर मुश्किल में,कलर्स को मिला नोटिस
    # बिग बॉस को दोबारा नोटिस भेजे सूचना प्रसारण मंत्राल...

  5. # बिग बॉस-4 , तगड़ा है ‘पंजाबी कनेक्शन’
    # बिग बॉस से बाहर किए जाने के पीछे सलमान और अरबाज का...
    # अश्मित के चिल्लाने पर फूट-फूट कर रोने लगीं वीना

  6. # सलमान की छत्र छाया में ऋशांत
    # ...जब फफक-फफक कर रोयीं डॉली
    # बिग बॉस मामले में दोबारा सुनवाई होगी

  7. # ‘बिग बॉस’ पर जवाब तलब
    # बिग बॉस के बाद मनोज तिवारी देंगे 'धोखा'
    # बिग बॉस 4 फिर मुश्किल में, कारण बताओ नोटिस का देना...

  8. # 'मैं तुम्हें क्या समझता था श्वेता और तुम क्या निकल...
    # मनोज तिवारी बेहद खफ़ा हैं बिग बॉस से
    # मनोज तिवारी के नाराज प्रशंसकों ने सलमान खान का पुत...

  9. friends says:

    सच कहने वालो को दुनिया ने हमेशा गलत ही समझा है
    lekin kisi ke galat samajhne se kya fark padta hai
    koi kuchch bhi samajh sakta hai sabki apni apni soch hai

  10. बवाल says:

    ओशो जी आप तो जबलपुरिया हैं इसीलिए यहाँ वाले तो आपको ग़लत समझ ही नहीं सकते।

  11. osho ko sahi samjhne k liye sahi ...pure samajh chahiye jo majority me hai nahi...so unhe galat samjha gaya..

  12. सही और गलत समझना प्रत्येक का निजि निर्णय होता है...ओशो भी स्वानुभव के आधार पर अपनी बात कहते थे। यदि कोई अपने आप को सही समझता है तो दूसरे क्या कहते हैं इस से कोई फर्क नही पड़ता।

  13. manu says:

    aur jo sahi samjh rahe hain....

    wo bhi UN ki hi samasyaa hai......aapki nahin....

    hai naa....!!!!!!!!!!!!!!!

  14. बेनामी says:

    पी.डी.आस्पेंस्की ने एक किताब लिखी है। किताब का नाम है, टर्शियम आर्गानम। किताब के शुरू में उसने एक छोटा सा वक्तव्य दिया है। पी.डी.आस्पेंस्की रूस का एक बहुत बड़ा गणितज्ञ था। बाद में, पश्चिम के एक बहुत अदभुत फकीर गुरजिएफ के साथ वह एक रहस्यवादी संत हो गया। लेकिन उसकी समझ गणित की है-गहरे गणित की।

  15. बेनामी says:

    उसने अपनी इस अदभुत किताब के पहले ही एक वक्तव्य दिया है, जिसमें उसने कहा है कि दुनिया में केवल तीन अदभुत किताबें हैं; एक किताब है अरिस्टोटल की-पश्चिम में जो तर्क-शास्त्र का पिता है, उसकी-उस किताब का नाम है: आर्गानम। आर्गानम का अर्थ होता है, ज्ञान का सिद्धांत।

  16. बेनामी says:

    फिर आस्पेंस्की ने कहा है कि दूसरी महत्वपूर्ण किताब है रोजर बैकन की, उस किताब का नाम है: नोवम आर्गानम-ज्ञान का नया सिद्धांत। और तीसरी किताब वह कहता है मेरी है, खुद उसकी, उसका नाम है: टर्शियम आर्गानम-ज्ञान का तीसरा सिद्धांत। और इस वक्तव्य को देने के बाद उसने एक छोटी सी पंक्ति लिखी है जो बहुत हैरानी की है।

  17. बेनामी says:

    उसमें उसने लिखा है, बिफोर दि फर्स्ट एक्झिस्टेड, दि थर्ड वाज़। इसके पहले कि पहला सिद्धांत दुनिया में आया, उसके पहले भी तीसरा था। पहली किताब लिखी है अरस्तू ने दो हजार साल पहले। दूसरी किताब लिखी है तीन सौ साल पहले बैकन ने। और तीसरी किताब अभी लिखी गई है कोई चालीस साल पहले।

  18. बेनामी says:

    लेकिन आस्पेंस्की कहता है कि पहली किताब थी दुनिया में उसके पहले तीसरी किताब मौजूद थी। और तीसरी किताब उसने अभी चालीस साल पहले लिखी है! जब भी कोई उससे पूछता कि यह क्या पागलपन की बात है? तो आस्पेंस्की कहता कि यह जो मैंने लिखा है, यह मैंने नहीं लिखा, यह मौजूद था, मैंने सिर्फ उदघाटित किया है।

  19. बेनामी says:

    न्यूटन नहीं था, तब भी जमीन में ग्रेविटेशन था। तब भी जमीन पत्थर को ऐसे ही खींचती थी जैसे न्यूटन के बाद खींचती है। न्यूटन ने ग्रेविटेशन के सिद्धांत को रचा नहीं, उघाड़ा। जो ढंका था, उसे खोला। जो अनजाना था, उसे परिचित बनाया। लेकिन न्यूटन से बहुत पहले ग्रेविटेशन था, नहीं तो न्यूटन भी नहीं हो सकता था।

  20. बेनामी says:

    ग्रेविटेशन के बिना तो न्यूटन भी नहीं हो सकता, न्यूटन के बिना ग्रेविटेशन हो सकता है। जमीन की कशिश न्यूटन के बिना हो सकती है, लेकिन न्यूटन जमीन की कशिश के बिना नहीं हो सकता। न्यूटन के पहले भी जमीन की कशिश थी, लेकिन जमीन की कशिश का पता नहीं था।

  21. ओशो जी को गलत समझना बहुत बड़ी भूल होगी । ओशो जी के तर्को का सामना कौन कर सकता हैँ। बहुत ही अच्छे लेख पोस्ट करते है आप। धन्यवाद!

    -: VISIT MY BLOG :-
    मेरे ब्लोग पर भी आपका स्वागत है।

    "एक चर्तुभुज बनाके छोड़ा मुझे...........कविता"

  22. बेनामी says:

    आस्पेंस्की कहता है कि उसका तीसरा सिद्धांत पहले सिद्धांत के भी पहले मौजूद था। पता नहीं था, यह दूसरी बात है। और पता नहीं था, यह कहना भी शायद ठीक नहीं। क्योंकि आस्पेंस्की ने अपनी पूरी किताब में जो कहा है, वह इस छोटे से सूत्र में आ गया है। आस्पेंस्की की टर्शियम आर्गानम जैसी बड़ी कीमती किताब...।

  23. बेनामी says:

    मैं भी कहता हूं कि उसका दावा झूठा नहीं है। जब वह कहता है कि दुनिया में तीन महत्वपूर्ण किताबें हैं और तीसरी मेरी है, तो किसी अहंकार के कारण नहीं कहता। यह तथ्य है। उसकी किताब इतनी ही कीमती है। अगर वह न कहता, तो वह झूठी विनम्रता होती। वह सच कह रहा है।

  24. बेनामी says:

    विनम्रतापूर्वक कह रहा है। यही बात ठीक है। उसकी किताब इतनी ही महत्वपूर्ण है। लेकिन उसने जो भी कहा है पूरी किताब में, वह इस छोटे से सूत्र में आ गया है। उसने पूरी किताब में यह सिद्ध करने की कोशिश की कि दुनिया में दो तरह के गणित हैं।

  25. बेनामी says:

    एक गणित है, जो कहता है, दो और दो चार होते हैं। साधारण गणित है। हम सब जानते हैं। साधारण गणित कहता है कि अगर हम किसी चीज के अंशों को जोड़ें, तो वह उसके पूर्ण से ज्यादा कभी नहीं हो सकते।

  26. बेनामी says:

    साधारण गणित कहता है, अगर हम किसी चीज को तोड़ लें और उसके टुकड़ों को जोड़ें, तो टुकड़ों का जोड़ कभी भी पूरे से ज्यादा नहीं हो सकता है। यह सीधी बात है। अगर हम एक रुपए को तोड़ लें सौ नए पैसे में, तो सौ नए पैसे का जोड़ रुपए से ज्यादा कभी नहीं हो सकता।

  27. बेनामी says:

    या कि कभी हो सकता है? अंश का जोड़ कभी भी अंशी से ज्यादा नहीं हो सकता, यह सीधा सा गणित है। लेकिन आस्पेंस्की कहता है, एक और गणित है, हायर मैथमेटिक्स। एक और ऊंचा गणित भी है और वही जीवन का गहरा गणित है।

  28. बेनामी says:

    वहां दो और दो जरूरी नहीं है कि चार ही होते हों। कभी वहां दो और दो पांच भी हो जाते हैं। और कभी वहां दो और दो तीन भी रह जाते हैं। और वह कहता है कि कभी-कभी अंशों का जोड़ पूर्ण से ज्यादा भी हो जाता है।

  29. ओशो को जन्मदिन पर नमन!

    ओशो पीने की चीज़ है जानने की नहीं!

Leave a Reply

कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय संयमित भाषा का इस्तेमाल करे। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी। यदि आप इस लेख से सहमत है तो टिपण्णी देकर उत्साहवर्धन करे और यदि असहमत है तो अपनी असहमति का कारण अवश्य दे .... आभार