" मेरा पूरा प्रयास एक नयी शुरुआत करने का है। इस से विश्व- भर में मेरी आलोचना निश्चित है. लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता "

"ओशो ने अपने देश व पूरे विश्व को वह अंतर्दॄष्टि दी है जिस पर सबको गर्व होना चाहिए।"....... भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री, श्री चंद्रशेखर

"ओशो जैसे जागृत पुरुष समय से पहले आ जाते हैं। यह शुभ है कि युवा वर्ग में उनका साहित्य अधिक लोकप्रिय हो रहा है।" ...... के.आर. नारायणन, भारत के भूतपूर्व राष्ट्रपति,

"ओशो एक जागृत पुरुष हैं जो विकासशील चेतना के मुश्किल दौर में उबरने के लिये मानवता कि हर संभव सहायता कर रहे हैं।"...... दलाई लामा

"वे इस सदी के अत्यंत अनूठे और प्रबुद्ध आध्यात्मिकतावादी पुरुष हैं। उनकी व्याख्याएं बौद्ध-धर्म के सत्य का सार-सूत्र हैं।" ....... काज़ूयोशी कीनो, जापान में बौद्ध धर्म के आचार्य

"आज से कुछ ही वर्षों के भीतर ओशो का संदेश विश्वभर में सुनाई देगा। वे भारत में जन्में सर्वाधिक मौलिक विचारक हैं" ..... खुशवंत सिंह, लेखक और इतिहासकार

प्रकाशक : ओशो रजनीश | बुधवार, जनवरी 27, 2010 | 71 टिप्पणियाँ



"Osho advocated meditation for everyone, but his technique was revolutionary, beginning not with stillness and silence but with violent activity to release pent-up energy and emotions, leading to a state of calmness in which meditation can flourish। ...This is an ideal place for people to learn the dozens of meditations he designed. There's swimming meditation, dancing and martial arts meditation, smoking meditation, walking meditation, breathing meditation and meditation for couples."

Washington Post

"Remarkable books."
Nicholas Mosley, Daily Telegraph, UK

"He was a guru unencumbered by tradition, an enlightened master who could quote Heidegger, and Sartre, and who furthermore believed in technology, capitalism and sex..."
The Washington Post

"Osho continues publishing very good spiritual texts indeed. These on Zen are direct and whimsical. ...Osho has a no-mind to his comments, sudden bursts of insight, novel ways of putting together images so that you read in an enchanted wonder."
The Book Reader, USA

"Many subjects of interest to psycho-historians are taken up by (Osho)in this fascinating series of talks - from esoteric topics to more familiar subjects like sex, child rearing, and the place of mind in understanding the world."
The Journal of Psychohistory, USA

"Osho has a no-mind to his comments, sudden bursts of insight, novel ways of putting images together so that you read in enchanted wonder. Any spiritual teacher who has such bad publicity must be saying some wonderfully terrible things. Tune in."
The USA Book Reader

"Osho is one of the most influential spiritual teachers of the second half of the 20th century and many thousands of people -- of all ages, from all countries and all spiritual backgrounds -- have been inspired by the simplicity and directness of his teachings."
Penguin Books

"In this volume Osho brings Bodhidharma to modern sensibilities but in a contemporary and interesting manner. Nearly 400 fascinatingly intelligent pages of questions and answers, lectures, writings, etc. A revolutionary, contemporary, utterly irreverent way to the spirit."
The Book Reader, USA

"Irreverent, wise, humorous, crazy, and ultimately very sane."
The Book Reader, USA

"You just don't read Osho, you undefine yourself."
The Book Reader, USA

"Osho's position as an important mystic and philosopher is supported by an international following and a host of publications. His work is that of all great religious leaders-bringing God to man...Osho's lively appeal: jokes, limericks, verse, and tales combined with traditional religious themes."
Library Journal, USA

"In a language simple but yet profound, the master Osho indicates the art of 'dying' by learning how to live in the here and now, the eternal life."
Livres Hebdo, France

"Now that religion has become just a formality, and the burning messages of the buddhas who have been on earth degraded to mere formal faith, the message of Osho who has reached to such dazzling heights of human consciousness through his own experience, is incomparable in its strength to pierce the beauty within our hearts."
Boston Club, Japan

"The way Osho is using language -- casual, provocative, iconoclastic -- is really new."
Parmita, Buddhist Newsletter, Italy

"Remarkable discourses...wise and clear... an excellent, recommendable book."
Book Review, De Kaarsvlam

"Osho is one of the most influential spiritual teachers of the second half of the 20th century and many thousands of people -- of all ages, from all countries and all spiritual backgrounds -- have been inspired by the simplicity and directness of his teachings."
Penguin Books

"A very nicely illustrated collection of Osho's aphorisms."
Chicago Review Press, USA

"He quotes Jesus, Buddha, Mahavira, Lao Tzu, Sufis and old Zen masters with stupendous memory, interpreting them with a freshness and directness as if they were speaking today, as if they wore jeans."
Die Zeit, Germany

"One of the ten people; along with Gandhi, Nehru and Buddha; who have changed the destination of India."
Sunday Mid-day, India

"He wanted to be called simply Osho, because Osho is a sound that heals, and reminds us about the ocean with its infinite wisdom and mystery.
In fact Osho is the greatest guru of our century. As Gandhi he had a commune in India. Osho's commune, in Pune, still exists and is visited by 100,000 people every year. Osho died in 1990 aged 59, but for all the people that come close to him his spirit keeps inspiring love, consciousness, and joy."
Vera, Italy

"Osho is not trying to purvey information, but a truth that bypasses conscious thought and all that belongs to it, just as the most important activities of human beings bypass the mind."
Bernard Levin, The Times, UK

"This is a beautiful volume of visuals, elegantly and delicately arranged; short selections of quotes to fill in the mountains, the bamboo shoots, the clouds."
The Book Reader, USA

"One of the great blessed spiritual masters of today, Osho is the one who speaks clearest on the role of energy expanding and fulfilling people's consciousness. The book deals entirely with the power of energy."
Gabriel Rosenstock, Comhar, Irish Book Review

"Osho has the ability to make the esoteric seem instantly appealing and utterly obvious."
Meditation Magazine, Canada

"Osho is a thoroughly modern man as much at home with Marx and Engels and humanistic psychology as with the mystical traditions of the East. Indeed, he uses Marx and Maslov, Plato and Heidegger, Freud and Beckett and Lenny Bruce, Playboy jokes as well as Zen and Sufi teaching stories, to make telling critiques of political and religious, psychological and sexual orthodoxies."
James Gordon Washington Post, USA

"Without question the most inspired, the most literate and the most profoundly informed speaker I have ever heard anywhere. Everything he says in his philosophy of life has the unmistakable ring of truth: a new experience."
Jean Lyell, Vogue, UK

"Osho could keep his audience in thrall, knitting prescient anecdotes culled from various sources."
Sunday Mail, India

"With Osho as a guide Tantra can give you a new perspective, a new way of looking at yourself and at life, a new way of living in harmony with existence...for Tantra is not an intellectual proposal, it is pure experience."
Penguin Books

"Osho is a living master who has died. His words turn normal ideas on their head and if he can't reach right through you to the divine void, well...tough luck. Osho is definitely alive in a fast breathing, shaking sort of vividness."
The Book Reader, USA

"No other master is known to me who is working as universally as he."
Esotera, Germany

"This is one of the fundamental works on knowing oneself and the world. Osho's comments are truly unique."
Corriere de la Serra, Italy

"Throughout Osho's teaching runs a golden thread of sparkling humor."
Vogue, UK

"Osho's speech just flows. It's not the 'what' but the 'how' that captures you."
Bunte, Germany

"As a former orthodox Christian, I felt a continual sense of both joy and apprehension at this new possibility for approaching Jesus. Doubt and trust pulled me in two directions, until finally I fell in love with the words of this Indian Master and his view of Jesus."
Glenn Moyer, Yoga Journal, USA

"In this five-volume set of Zen, Osho is at the top of his form. He talks about Gurdjieff, Gertrude Stein, drugs, Aldous Huxley, and everything under the sun."
The Book Reader, USA

"There are many readers of his books in Japan. What is special about Osho is that he dares to make statements on subjects which are related to society, subjects that old Zen masters tried not to touch."
Zen Bunka, Japan

"Osho delivers his theses with humor and rhetoric brilliance, indeed complacent, but with an irony that actually enhances and exhilarates."
Der Spiegel, Germany

"But who was this man who was enchanting these young people, and teaching them how to get rid of all their conditionings -- political, religious and family -- without giving them any new beliefs?
...His knowledge of the West was as formidable as his knowledge of the East. From Buddha to Jesus, from Heraclitus to Marx, from the Indian mystic, Tilopa to Jung, from Zen to the Sufis, from Yoga to Tantra, he would point out the strengths and weaknesses of each doctrine…. [He] was the Master who would not give solutions, but simply provide a space to let go of the madness caused by living a life where the body, mind, being and soul were not connected…. Like Socrates he [Osho] was considered a corrupter of the morals of young people, like all true philosophers he demolished a belief system that produced only unhappiness, not joy. His greatness was that he didn't give solutions, only tools for people to realize themselves... Talking about an India that we don't often remember, the India where meditation and looking inwards were priorities - Osho shows that those qualities belong not only to India from the days of Buddha but are part of our present too."
Elle, Italy 1997

"This is the message: Osho promises that through meditation everybody can become a Buddha. Which means, one can awaken, become conscious of oneself and of the secret of life; and so, not suffering any more find final peace. This is the Zen teaching, but with something more."
Vera, Italy

"Two other meditation techniques practiced in more and more groups and seminars are relatively new. The 'Dynamic Meditation' and a shaking meditation which goes by the somewhat esoteric name 'Kundalini meditation' (nothing to do with Kundalini Yoga). These meditations have been created by the Indian mystic, Osho."
Halsa, Sweden

"What is left is Osho's teaching about life as "Zorba the Buddha," to be as free as Alexis Zorba and as aware as Buddha. Obviously Osho's cocktail, a mixture of religious science, philosophy, psychology and meditation, is in accordance with the Zeitgeist at the end of the millennium. …Osho broke with social taboos, rattled at ideologies, moral views and at the image of respected political and religious leaders such as Gandhi or Mother Teresa"

Facts Magazine, Switzerland
"The present generation has come to acknowledge that Osho was one of the greatest minds produced by our country. It was befitting that the 50th year of Indian Independence should have been celebrated by the publication of an anthology of articles of tributes Osho paid to the spiritual legacy of his country."
Mid-Day, Bombay

"He was for religiousness, not religion and he was the rich man's guru, because they could contemplate after meeting their needs."
Times of India

"For those who think that Osho is the guide and they must become his followers, there is a bad news. Servility, the staple food that most other gurus insist on feeding their "disciples," is not encouraged by Osho. There are no -isms, only thinking and self-meditation can really take you beyond the shallow and self-destructive existence that Osho criticizes."
The Asian Age, London

"Summarizing the thoughts of a man whose transcribed teachings fill an entire bookstore and have sold a purported 15 million volumes worldwide is not easy. Perhaps the kernel is Osho's notion that the perfect human being combines the earth zest of Zorba the Greek and the transcendental spirituality of Buddha."
L.A. Times

"What he (Osho) says is couched in language of great power and fluency; he is one of the most remarkable orators I have ever heard, though there is no hint of demagogy in his style, and no oratory or pedagogic feeling about the content of what he says...."
Bernard Levin, The Times, London

"Here was a guru unencumbered by tradition, an Enlightened Master who could quote Heidegger and Sartre, and who furthermore believed in technology, capitalism, and sex... (Osho) was a brilliant lecturer.... One of his lectures ended with a description of a dewdrop sliding off a lotus leaf and being carried down a stream to the ocean. It put virtually everyone in his audience into an alpha-wave state at ten in the morning."
Francis Fitzgerald (Pulitzer prizewinner), The New Yorker

"Drawn from a variety of ideologies and religious traditions, but bearing their own stamp, Osho's teachings are uncompromisingly radical, anti-rational and capricious. They invite the individual to free his or herself from all the social conditioning: the only commitment is to be open and honest, to enjoy life, love oneself."
The Sunday Times: '1000 Makers of the Twentieth Century'

"This man fascinates the western elite in a way nobody else does."
Suddeutsche Zeitung, Germany

"The novelty of Osho's teachings is the adaptation of Eastern spiritual wisdom for the Western audience. This may explain the success of his Bible, (ranked in the top-ten best-selling non-fiction)."
La Republicca, Italy

"What Osho has to say about the rights of man is 'must' reading for anyone sincerely interested in human welfare and progress because he debunks the conventional wisdom. Anyone who reads this book will understand why so many governments have refused to grant him permission to live within their borders. What he says are the truths that politicians cannot have people hear. If Osho were heard, national boundaries would dissolve, and power would leave the hands of elites and politicians. Celebration of life, love and laughter would become the dominant mode of life on earth."
New Frontier, USA

"The story of Osho's life makes fascinating reading, and this is a good book to start with."
The Book Review, India

"Imagine a world where life is fun, where 'play' has replaced 'work' and where creative self-expression is always encouraged. Imagine a world where joy and laughter are the norm, where life is fully celebrated and where love is the highest ideal. Imagine the world of Osho..."
Spirit Magazine, UK

"A Quiet, Spiritual Place To Find yourself... The 3,500-square-foot space at 570 Lexington Avenue reflects the spirit of Osho, who taught meditation and Zen principles..."
New York Times

"For me the important fact that rang out loud and clear was that Osho was a rare mystic. He was a feminist. Spiritualism has invariably become associated with men. Women are seen as devotees, men as seekers. Osho put an end to all that. He realized that liberation was not merely of body and mind but also of the soul."
Farzana Versey, The Sunday Observer, January 1996

"One of the 10 People who have changed the destiny of India. Osho: For liberating the minds of future generations from the shackles of religiosity and conformism. He was a deeply spiritual man who denounced all religions."
Khushwant Singh, Mid-day, July 1991

"Some people call it the 'Buddhafield' of an enlightened master. Others say it's the world's largest spiritual single's club. One thing is certain: the Osho Commune International --founded nearly 25 years ago by Osho is not your typical Indian ashram. A New Age Xanadu that attracts thousands of visitors every day, the commune is a self-contained personal growth conglomerate, offering an astonishing variety of classes and workshops in everything from organizational development to tantric sex. And if the courses don't interest you, you can spend your days romping in the swimming pool, sauna, "Zennis" courts, and bistro of the commune's "Club Meditation."
By Anne Cushman and Jerry Jones, Yoga Journal, June 1998

"The Osho Commune, founded in 1974, claims to be the world's largest growth center for meditation and spiritual growth. It attracts more than three percent of all foreign tourists to India - more than the Taj Mahal - and is the most widely visited destination in the country. In January, celebrations of the seventh anniversary of founder Osho's death attracted record numbers of visitors. Osho's followers insist that he merely "left his body". The inscription by his ashes reads: "OSHO: Never Born, Never died; only visited this planet Earth, between Dec. 11, 1931 and Jan. 19, 1990."
For one who was never born, he certainly made a massive impact on the world."
Emma Levine, Asia Magazine

"Osho Commune International is 'a kind of spiritual park -- the world's largest meditation commune."

  • "Every year thousands of people visit this luxurious commune.... A very comfortable paradise where you can stay a long time with low-budget hotels nearby and very good food in the Commune, with meditations free..."
  • "The atmosphere is really like a fairy tale. A paradise where all your emotional, bodily and spiritual needs are met. I can advise everybody to visit for a few days and walk around that beautiful garden where everybody is friendly."
    Elle, Holland

    "More and more so-called meditation tourists are coming. These are lawyers and doctors, as well as teachers, police officers and housewives. Some are sannyasins, most of them in fact aren't. All of them are attracted by what the new ashram has to offer: With a mixture of spirituality and holiday camp one can experience how to keep the soul in balance."
    Bild am Sonntag, Germany

    "The commune in Poona is the biggest tourist attraction in India, second only to the Taj Mahal."
    Brigitte, Germany

    "They have constructed pyramids of marble and a pristine Zen garden. Thousand of men and women pour through the gate every day, from Europe, America, Australia, and Japan."
    Wall Street Journal, USA

    "The Osho Commune International has created a stunning landscape, a vista of gurgling streams, curving paths, and a quiet, shady corners ideal for meditating. It is an admirable attempt to fashion a self-sufficient eco-stystem, and it may be the only community in India where the tap water is totally safe for foreigners to drink. The grounds are immaculate..."
    Conde Nast Traveler, USA
  • 71 पाठको ने कहा ...

    1. स्वगात है.

      इसी तरह नयी नयी जानकारी देते रहे.

    2. आभार आप सभी पाठको का ....
      सभी सुधि पाठको से निवेदन है कृपया २ सप्ताह से ज्यादा पुरानी पोस्ट पर टिप्पणिया न करे
      और अगर करनी ही है तो उसकी एक copy नई पोस्ट पर भी कर दे
      ताकि टिप्पणीकर्ता को धन्यवाद दिया जा सके

      ओशो रजनीश

    3. बेनामी says:

      कुछ प्रश्‍न उठाये जाते है। यहां उनके उत्‍तर देना पसंद करूंगा:–

    4. बेनामी says:

      एक मित्र ने पूछा है कि अगर यह बात समझायी जाये तो जो समझदार है, बुद्धिजीवी है, इंटेलिजेन्‍सिया है, मुल्‍क का जो अभिजात वर्ग है, बुद्धिमान और समझदार है, वह तो संतति नियमन कर लेगा, परिवार नियोजन कर लेगा। लेकिन जो गरीब है, दीन-हीन है, वे पढ़े लिखे ग्रामीण है, जो कुछ समझते ही नही, वह बच्‍चे पैदा करते ही चले जायेंगे और लम्‍बे अरसे में परिणाम यह होगा कि बुद्धि मानों के बच्‍चे कम हो जायेगे और गैर-बुद्धि मानों के बच्‍चों की संख्‍या बढ़ती जायेगी।

    5. बेनामी says:

      इसे दूसरे तरह से धर्म-गुरु भी उठाते है। वे कहते है कि मुसलमान तो सुनते ही नहीं, ईसाई सुनते नहीं, कैथोलिक सुनते नही, वे कहते है कि ‘संतति नियमन’ हमारे धर्म के विरोध में है। मुसलमान फ्रिक नहीं करता तो हिन्‍दू क्‍यों फ्रिक करेगा। हिन्‍दू धर्म गुरु कहते है कि हिन्दू सिकुड़े और मुसलमान, ईसाई बढ़ते चले जायेंगे। पचास साल में मुश्‍किल हो जायेगी, हिन्‍दू नगण्‍य हो जायेंगे। मुसलमान और ईसाई बढ़ जायेंगे। इस बात में भी थोड़ा अर्थ है।

    6. बेनामी says:

      इन दोनों के संबंध में कुछ कहना चाहूंगा।

    7. बेनामी says:

      पहली बात तो यह है कि संतति नियमन कम्‍पलसरी, अनिवार्य होना चाहिए, वालेन्‍टरी, इेच्‍छिक नहीं।

    8. बेनामी says:

      जब तक हम एक-एक आदमी को समझाने की कोशिश करेंगे की तुम्‍हें संतति नियमन करवाना चाहिए, तब तक इतनी भीड़ हो चुकी होगी कि संतति नियमन का कोई अर्थ नहीं रह जायेगा।

    9. बेनामी says:

      एक अमेरिकी विचार ने लिखा है कि इस वक्‍त सारी दुनिया में जितने डाक्‍टर परिवार नियोजन में सहयोगी हो सकते है, अगर वि सब के सब एशिया में लगा दिए जायें,और वे बिलकुल न सोये चौबीस घंटे आपरेशन करते रहें, तो भी उन्‍हें एशिया को उस स्‍थिति में लाने के लिए, जहां जनसंख्‍या नियंत्रण में आ जाय, पाँच सौ वर्ष लगेंगे। और पाँच सौ वर्ष में तो हमने इतने बच्‍चे पैदा कर लिए होंगे जिसका कोई हिसाब नहीं रह जायेगा।

    10. बेनामी says:

      ये दोनों संभावनाएं नहीं है। दुनिया के सभी डाक्‍टर एशिया में लाकर लगाये नहीं जा सकते। और पाँच सौ वर्ष में हम खाली थोड़े ही बैठे रहेंगे। पाँच सौ वर्षों में तो हम जाने क्‍या कर डालेंगे। नहीं यह संभव नहीं होगा। समझाने बुझाने के प्रयोग से तो सफलता दिखाई नहीं पड़ती है।

    11. बेनामी says:

      संतति नियमन तो अनिवार्य करना पड़ेगा और यह अलोकतांत्रिक नहीं है।

    12. बेनामी says:

      एक आदमी की हत्‍या करने में जितना नुकसान होता है, उससे हजार गुना नुकसान एक बच्‍चे को पैदा करने से होता है। आत्‍महत्‍या से जितना नुकसान होता है, एक बच्‍चा पैदा करने से उससे हजार गुणा नुकसान होता है। समझाने-बुझाने के प्रयोग से तो सफलता दिखाई नहीं पड़ती।

    13. बेनामी says:

      संतति नियमन तो अनिवार्य होना चाहिए।

    14. बेनामी says:

      तब गरीब व अमीर और बुद्धिमान व गैर बुद्धिमान का सवाल नहीं रह जायगा। तब हिन्‍दू, मुसलमान और ईसाई का सवाल नहीं रह जायेगा।

    15. बेनामी says:

      यह देश बड़ा अजीब है, हम कहते है कि हम धर्मनिरपेक्ष है, और फिर भी सब चीजों में धर्म का विचार करते है। सरकार भी विचार रखती है। ‘हिन्‍दू कोड बिल’ बना हुआ है। वह सिर्फ हिन्‍दू स्‍त्रियों पर ही लागू होता है। यह बड़ी अजीब बात है। सरकार जब धर्म निरपेक्ष है तो मुसलमान स्‍त्रियों को अलग करके सोचे, यह बात ही गलत है। सरकार को सोचना चाहिए स्‍त्रियों के संबंध में।

    16. बेनामी says:

      मुसलमान को हक है कि वह चार शादियाँ करे,किन्‍तु हिन्‍दू को हक नहीं है। तो मानना क्‍या होगा? यह धर्म निरपेक्ष राज्‍य कैसे हुआ?

    17. बेनामी says:

      हिन्‍दुओं के लिए अलग नियम और मुसलमान के लिए अलग नियम नहीं होना चाहिए।

    18. बेनामी says:

      सरकार को सोचना चाहिए ‘स्‍त्री‘ के लिए। क्‍या यह उचित है कि चार स्‍त्रियां एक आदमी की पत्‍नी बने? यह हिन्‍दू हो या मुसलमान, यह असंगत है। चार स्‍त्रियों एक आदमी की पत्नियाँ बने, यह बात ही अमानवीय है।

    19. बेनामी says:

      यह सवाल नहीं है कौन हिन्‍दू है और कौन मुसलमान है। यह अपनी-अपनी इच्‍छा की बात है। फिर कल हम यह भी कह सकते है कि मुसलमान को हत्‍या करने की थोड़ी सुविधा देनी चाहिए। ईसाई को थोड़ी या हिन्‍दू को थोड़ी सुविधा देनी चाहिए हत्‍या करने की। नहीं, हमें व्‍यक्‍ति और आदमी की दृष्‍टि से विचार करने की जरूरत नहीं है। यह सवाल पूरे मुल्‍क का है, इसमें हिन्‍दू, मुसलमान और ईसाई अलग नहीं किये जा सकते।

    20. बेनामी says:

      दूसरी बात विचारणीय है कि हमारे देश में हमारी प्रतिभा निरंतर क्षीण होती चली गयी है। और अगर हम आगे भी ऐसे ही बच्‍चे पैदा करना जारी रखते है तो संभावना है कि हम सारे जगत में प्रतिभा में धीरे-धीरे पिछड़ते चले जायेंगे।

    21. बेनामी says:

      अगर इस जाति को ऊँचा उठाना हो—स्‍वास्‍थ्‍य में, सौन्‍दर्य में, प्रतिभा में, मेधा में तो हमें प्रत्‍येक आदमी को बच्‍चे पैदा करने का हक नहीं देना चाहिए।

    22. बेनामी says:

      संतति नियमन अनिवार्य तो होना ही चाहिए। बल्‍कि जब तक विशेषज्ञ आज्ञा न दें, तब तक बच्‍चा पैदा करने का हक किसी को भी नहीं रह जाना चाहिए। मेडिकल बोर्ड जब तक अनुमति न दे-दे, तब तक कोई आदमी बच्‍चे पैदा न कर सके।

    23. बेनामी says:

      कितने कोढ़ी बच्‍चे पैदा किये जाते है, कितने ईडियट, मूर्ख पैदा किये जाते है। कितने संक्रामक रोगों से भरे लोग बच्‍चे पैदा करते है और उनके बच्‍चे पैदा होते चले जाते है। और देश में दया और धर्म करने वाले लोग है। अगर वे खुद अपने बच्‍चे न पाल सकते हों, तो हम उनके लिए अनाथालय खोलकर उनके बच्‍चों पालने का भी इंतजाम कर देते है। ये ऊपर से तो दान और दया दिखाई पड़ रही है, लेकिन है बड़ी खतरनाक इंतजाम। इंतजाम तो यह होना चाहिए कि बच्‍चे स्‍वस्‍थ,सुन्‍दर,बुद्धिमान, प्रतिभाशाली वह संक्रामक रोगों से मुक्‍त हों।

    24. बेनामी says:

      असल में शादी के पहले ही हर गांव में हर नगर में डॉक्टरों की, विचारशील मनोवैज्ञानिकों, साइकोलॉलिस्‍टस की सलाहकारसमिति होनी चाहिए। जो प्रत्‍येक व्‍यक्‍ति को निर्देश दे। अगर दो व्‍यक्‍ति शादी करते है, तो वे बच्‍चे पैदा कर सकेंगे या नहीं, यह बता दें। शादी करने का हक प्रत्‍येक को है। ऐसे दो लोग भी शादी कर सकेंगे जिनको सलाह नदी गयी हो, लेकिन बच्‍चो पैदा न कर सकेंगे।

    25. बेनामी says:

      हम जानते है कि पौधे पर ‘क्रास ब्रीडिंग’ से कितना लाभ उठाया जा सकता है। एक माली अच्‍छी तरह जानता है कि नये बीज कैसे विकसित किये जाते है। गलत बीजों को कैसे हटाया जा सकता है। छोटे बीज कैसे अलग किये जा सकते है, बड़े बीज कैसे बचाये जा सकते है। एक माली सभी बीज नहीं बो देता। बीजों को छाँटता है।

    26. बेनामी says:

      हम अब तक मनुष्‍य-जाति के साथ उतनी समझदारी नहीं कर सके, जो एक साधारण सा माली बग़ीचे में करता है। यह भी आपको ख्‍याल हो कि जब माली को बड़ा फूल पैदा करना होता है तो वह छोटे फूलों को पहले काट देता है। आपने कभी फूलों की प्रदर्शनी देखी है, जो फूल जीतते है,उनके जीतने का कारण क्‍या है?

    27. बेनामी says:

      उनका कारण यह है कि माली ने होशियारी से एक पौधे पर एक ही फूल पैदा किया। बाकी फूल पैदा ही नहीं होने दिये। बाकी फूलों को उसने जड़ से ही अलग कर दिया, पौधे की सारी शक्‍ति एक ही फूल में प्रवेश कर गयी।

    28. बेनामी says:

      एक आदमी बारह बच्‍चे पैदा करता है तो भी कभी भी बहुत प्रतिभाशाली बच्‍चे पैदा नहीं कर सकता। अगर एक ही बच्‍चा पैदा करे तो बारह बच्‍चों की सारी प्रतिभा एक बच्‍चे में प्रवेश कर सकती है।

    29. बेनामी says:

      रकृति के भी बड़े अद्भुत नियम है। प्रकृति बड़े अजीब ढंग से काम करती है। जब युद्ध होता है दुनिया में,तो युद्ध के बाद लोगों की संतति पैदा करने की क्षमता बढ़ जाती है। यह बड़ी हैरानी की बात है। युद्ध से क्‍या लेना-देना। जब-जब भी युद्ध होता है तो जन्‍म दर बढ़ जाती है। पहले महायुद्ध के बाद जन्‍म दर एकदम ऊपर उठ गई, कयोंकि पहले महायुद्ध में साढ़े तीन करोड़ लोग मर गये थे। प्रकृति कैसे इंतजाम रखती है। यह भी हैरानी की बात है। प्रकृति को कैसे पता चला कि युद्ध हो गया, और अब बच्‍चों की जन्‍म दर बढ़ जानी चाहिए। दूसरे महायुद्ध में भी कोई साढ़े सात करोड़ लोग मारे गये। जन्‍म दर एकदम बढ़ गई। महामारी के बाद हैजा के बाद,प्‍लेग के बाद लोगों की जन्‍म दर बढ़ जाती है।

    30. बेनामी says:

      अगर एक आदमी पचास बच्‍चे पैदा करे तो उसकी शक्‍ति पचास पर बिखर जाती है। अगर वह एक ही बच्‍चे पर केन्‍द्रित करे तो उसकी शक्‍ति,उसकी प्रतिभा प्रकृति एक ही बच्‍चे में डाल सकती है। सौ लड़कियां पैदा होती है तो लड़के 116 पैदा होते है। यह अनुपात है सारी दुनिया में। और यह बड़े मजे की बात है कि 116 लड़के किस लिए पैदा होते है? 16 लड़ते बेकार रह जायेगे, इन्‍हें कौन लड़की देगा? 100लड़कियां पैदा होती है, 116 लड़के पैदा होते है। लेकिन प्रकृति का इंतजाम बड़ा अद्भुत है। प्रकृति का इंतजाम बहुत गहरा है। वह लड़कियों को कम पैदा करती है और लड़कों को अधिक; क्‍योंकि उम्र पाते-पाते प्रौढ़ होते-होते16 लड़के मर जाते है। और संख्‍या बराबर हो जाती है। असल में लड़कियों के जीवन में जीने की रेजिस्‍टेन्‍स, अवरोध-क्षमता लड़कों से ज्‍यादा होती है। इस लिए 16 लड़के ज्‍यादा पैदा होते है। हर 14 साल बाद संख्‍या बराबर हो जाती है। लड़कियों में जिंदा रहने की शक्‍ति लड़कों से ज्‍यादा है।

    31. बेनामी says:

      आमतौर पर पुरूष सोचता है कि हम सब तरह से शक्‍तिवान है। इस भूल में मत पड़ना। कुछ बातों को छोड़कर स्‍त्रियां पुरूषों से कई अर्थों में ज्‍यादा शक्‍तिवान है, उनका रेजिस्‍टेन्‍स, उनकी शक्‍ति कई अर्थों में ज्‍यादा है। शायद प्रकृति ने स्‍त्री को सारी क्षमता इसलिए दी है कि वह बच्‍चे को पैदा करने की बच्‍चे को झेलने की, बड़ा करने की जो इतनी तकलीफदेह प्रक्रिया है, उन सब को झेल सके। प्रकृति सब इंतजाम कर देती है। अगर हम बच्‍चे कम पैदा करेंगे तो प्रकृति जो अनेक बच्‍चों पर प्रतिभा देती है। वह एक बच्‍चे पर डाल देगी।

    32. बेनामी says:

      आदमी इस लिए रहा है कि वह दूसरी चीजों के विषय में वैज्ञानिक चिंतन कर लेता है, लेकिन आदमियों के संबंध में नहीं करता। आदमियों के संबंध में हम बड़े अवैज्ञानिक है। हम कहते है कि हम कुंडली मिलायेंगे। हम कहते है कि हम ब्राह्मण से ही शादी करेंगे।

    33. बेनामी says:

      विज्ञान तो कहता है की शादी जितनी दूर हो उतनी ही अच्‍छी है। अगर अन्तर जातीय होत बहुत अच्‍छा है। अंतर्देशीय हो; तो और भी अच्‍छा है। और अंतर्राष्‍ट्रीय हो तो अधिक अच्‍छा है। और आज नहीं तो कल अंतर्ग्रहीय हो जाये, मंगल पर या कहीं और आदमी मिल जाये तो और भी अच्‍छा है। क्‍योंकि हम जानते है कि अंग्रेजी सांड और हिन्‍दुस्‍तानी गाय हो तो जो बछड़े पैदा होंगे? उसका मुकाबला नहीं रहेगा।

    34. बेनामी says:

      हम आदमी के संबंध में समझ का उपयोग कब करेंगे?

    35. बेनामी says:

      अगर हम समझ का उपयोग करेंगे तो जो हम जानवरों के साथ कर रहे है, समृद्ध फूलों के साथ कर रहे है। वही आदमी के साथ करना जरूरी होगा। ज्‍यादा अच्‍छे बच्‍चे पैदा किये जा सकते है, ज्‍यादा स्‍वस्‍थ,ज्‍यादा उम्र जीने वाले, प्रतिभा शाली। लेकिन उनके लिए कोई व्‍यवस्‍था देने की जरूरत है।

    36. बेनामी says:

      परिवार नियोजन,मनुष्‍य के वैज्ञानिक संतति नियोजन का पहला कदम है।

    37. बेनामी says:

      अभी और कदम उठाने पड़ेंगे, यह तो अभी सिर्फ पहला कदम है। लेकिन पहले कदम से ही क्रांति हो जाती है। वह क्रांति आपके ख्‍याल में नहीं है। वह मैं आपसे कहना चाहूंगा। जो बड़ी क्रांति परिवार नियोजन की व्‍यवस्‍था से हो जाती है। हम पहली बार सेक्‍स को यौन को संतति से तोड़ देते है। अब तक यौन संभोग का अर्थ था—संतति का पैदा होना। अब हम दोनों को तोड़ देते है। अब हम कहते है, संतति को पैदा होने की कोई अनिवार्यता नहीं है।

    38. बेनामी says:

      यौन और संतति को हम दो हिस्‍सों में तोड़ रहे है—यह बहुत बड़ी क्रांति है।

    39. बेनामी says:

      इसका मतलब अंतत: यह होगा कि अगर यौन से संतति के पैदा होने की संभावना नहीं है तो कल हम ऐसी संतति को भी पैदा करने की व्‍यवस्‍था करेंगे जिसका हमारे यौन से कोई संबंध न हो—यह दूसरा कदम होगा।

    40. बेनामी says:

      संतति नियमन का अंतिम परिणाम यह होने वाला है कि हम वीर्य-कणों को सुरक्षित रखने की व्‍यवस्‍था कर सकेंगे? आइंस्‍टीन का वीर्य कण उपलब्‍ध हो सकता है।

    41. बेनामी says:

      एक आदमी के पास कितने वीर्य-कण है। कभी आपने सोचा है? एक संभोग में एक आदमी कितने वीर्य कण खोता है? एक संभोग में एक आदमी इतने वीर्य कण खोता है कि उनसे एक करोड़ बच्‍चे पैदा हो सकत है। और एक आदम अंदाजन जिंदगी में चार हजार बार संभोग करता है। याने एक आदम चार हजार करोड़ बच्‍चों को जन्‍म दे सकता है।

    42. बेनामी says:

      एक आदमी के वीर्य कण अगर संरक्षित हो सकें तो एक आदमी चार करोड़ बच्‍चों का बाप बन सकता है। एक आइंस्‍टीन चार हजार बच्‍चों को जन्‍म दे सकता है। एक बुद्ध चार हजार बच्‍चों को जन्‍म दे सकता है।

    43. बेनामी says:

      क्‍या ये उचित होगा की हम आदमी की बाबत विचार करे। और हम इस बात की खोज करें? संतति नियमन ने पहली घटना शुरू कर दी, हमने सेक्‍स को तोड़ दिया। अब हम कहते है कि बच्‍चे की फिक्र छोड़ दो संभोग किया जा सकता है। संभोग का सुख लिया जा सकता है। बच्‍चे की चिंता की कोई जरूरत नहीं है। जैसे ही यह बात स्‍थापित हो जायेगी। दूसरी कदम भी उठाया जा सकता है।

    44. बेनामी says:

      और वह यह कि—अब जिससे संभोग करते हों, उससे ही बच्‍चा पैदा हो, तुम्‍हारे ही संभोग से बच्‍चा पैदा हो, यह भी अवैज्ञानिक है।

    45. बेनामी says:

      और अच्‍छी व्‍यवस्‍था की जा सकती है, और वीर्य-कण उपलब्‍ध किया जा सकता है। वैज्ञानिक व्‍यवस्‍था की जा सकती है। और तुम्‍हें वीर्य कण मिल सकता है। चूंकि अब तक हम उसको सुरक्षित नहीं रख सकते थे। अब तो उसको सुरक्षित रखा जा सकता है। अब जरूरी नहीं कि आप जिंदा हों, तभी आपका बेटा पैदा हो। आपके मरने के 50 साल बाद भी आपका बेटा पैदा हो सकता है।

    46. बेनामी says:

      इसलिए यह जल्‍दी करने की जरूरत नहीं है कि मेरा बेटा मेरे जिंदा रहने में ही पैदा हो जाये। वह बाद में 10 हजार साल बाद भी पैदा हो सकता है। अगर मनुष्‍यों ने समझा कि आपका बेटा पैदा करना जरूरी है। तो वह आपके लिए सुरक्षा कर सकता है।

    47. बेनामी says:

      आपका बच्‍चा कभी भी पैदा हो सकता है। अब बाप और बेटे का अनिवार्य संबंध उस हालत में नहीं रह जायेगा। जिस हालत में अब तक था, वह टूट जायेगा।

    48. बेनामी says:

      एक क्रांति हो रही है। लेकिन इस देश में हमारे पास समझ बहुत कम है। अभी तो हम संतति नियमन को ही नहीं समझ पा रहे है। यह पहला कदम है, यह सेक्‍स मारेलिटी के संबंध में पहला कदम है। और एक दफा सेक्‍स की पुरानी आदत, पुरानी नीति टूट जाये तो इतनी क्रांति होगी कि जिसका हिसाब लगाना मुश्‍किल है। क्‍योंकि हमें पता भी नहीं कि जो भी हमारी नीति है वह किसी पुरानी यौन व्‍यवस्‍था से संबंधित है। यौन व्‍यवस्‍था पूरी तरह टूट जाये तो पूरी नीति बदल जाती है।

    49. बेनामी says:

      धर्म-गुरु इसलिए भी डरा हुआ है। गांधी जी और विनोबा जी इसलिए भी डरे हुए है कि अगर यह कदम उठाया गया तो यह पुरानी नैतिक व्‍यवस्‍था को तोड़ देगा। नयी निति विकसित हो जायेगी। क्‍योंकि पुरानी नीति का कोई अर्थ नहीं रह जायेगा।

    50. बेनामी says:

      अब तक स्‍त्री को निरंतर दबाया जा सकता था। पुरूष अपने सेक्‍स के संबंध में स्‍वतंत्रता बरत सकता है। क्‍योंकि उसको पकड़ना मुश्‍किल है।

    51. बेनामी says:

      इसलिए, पुरूष ने ऐसी व्‍यवस्‍था बनायी था, जिसमे स्‍त्री की पवित्रता और अपनी स्‍वतंत्रता का पूरा इंतजाम रखा था। इसलिए स्‍त्री को सती होना पड़ता था, पुरूष को नहीं।

    52. बेनामी says:

      इसलिए स्‍त्री के कुँवारे रहने पर भारी बल था, पुरूष के कुँवारे रहने की कोई चिंता न थी। इस लिए अब भी माताएं ओर स्‍त्रियां कहती है। कि लड़के तो लड़के है, लेकिन लड़कियों के संबंध में हिसाब अलग है।

    53. बेनामी says:

      अगर संतति नियमन की बात पूरी होगी। होनी ही पड़ेगी। तो लड़कियां भी लड़कों जैसी मुक्‍त हो जायेगी। उनको फिर बांधने और दबाने का उपाय नहीं रहेगा। लड़कियां उपद्रव में पड़ सकती थीं,क्‍योंकि उनको गर्भ रह जा सकता है। पुरूष उपद्रव में नहीं पड़ता था, क्‍योंकि उसको गर्भ का कोई डर नहीं है।

    54. बेनामी says:

      नई व्‍यवस्‍था ने लड़कियों को भी लड़कों की स्‍थिति में खड़ा कर दिया है। पहली दफा स्‍त्री और पुरूष की समानता सिद्ध हो सकेगी। अब तक सिद्ध ने हो सकती थी। चाहे हम कितना भी चिल्‍लाते कि स्‍त्रियों और पुरूष समान है। वे इसलिए समान नहीं हो सकते थे। क्‍योंकि पुरूष स्‍वतंत्रता बरत सकता था। पकड़ा जाने के भय से स्‍त्री स्‍वतंत्रता नहीं बरत सकती थी।

    55. बेनामी says:

      विज्ञान की व्‍यवस्‍था ने स्‍त्री को पुरूष के निकट खड़ा कर दिया है। अब वे दोनों बराबर स्‍वतंत्र है। अगर पवित्रता निश्‍चित करनी है, तो दोनों को ही निश्‍चित करनी पड़ेगी। अगर स्‍वतंत्रता तय करनी है, तो दोनों समान रूप सक स्‍वतंत्र होगें।

    56. बेनामी says:

      बर्थ-कंट्रोल, संतति नियमन के कृत्रिम साधन स्‍त्री को पहली बार पुरूष के निकट बिठाते है। बुद्ध नहीं बिठा सके, महावीर नहीं बिठा सके। अब तक दुनियां में कोई महापुरुष नहीं बिठा सका।

    57. बेनामी says:

      उन्‍होंने कहा, दोनों बराबर हे। लेकिन वे बराबर हो नहीं सके। क्‍योंकि उनकी एन टॉमी,उनकी शरीर की व्‍यवस्‍था खास कर गर्भ की व्‍यवस्‍था कठिनाई में डाल देती थी। स्‍त्री कभी भी पुरूष की तरह स्‍वतंत्र नहीं हो सकती थी। आज पहली दफा स्‍त्री भी स्‍वतंत्र हो सकती है। अब इसके दो मतलब होंगे—या तो स्‍त्री स्‍वतंत्र की जाये या पुरूष की अब तक की स्‍वतंत्रता पर पुनर्विचार किया जाये।

    58. बेनामी says:

      अब सारी नीति को बदलना पड़ेगा। इसलिए धर्म-गुरु परेशान है। अब मनु की नीति को बदलना पड़ेगा। इस लिए धर्म गुरु परेशान है। अब मनु की नीति नहीं चलेगी, क्‍योंकि सारी व्‍यवस्‍था बदल जायेगी और इसलिए उनकी घबराहट स्‍वाभाविक है।

    59. बेनामी says:

      लेकिन, बुद्धिमान लोगों को समझ लेना चाहिए कि उनकी घबराहट,उनकी नीति को बचाने के लिए मनुष्‍यता की हत्‍या नहीं की जा सकती। उनकी नीति जाती हो कल, तो आज चली जाये। लेकिन मनुष्‍यता को बचाना ज्‍यादा महत्‍वपूर्ण है और ज्‍यादा जरूरी है। मनुष्‍य रहेगा तो हम नयी नीति खोज लेंगे,और अगर मनुष्‍यता न रही तो मनु की याज्ञवल्‍क्‍य की किताबें सड़ जायेगी। और गल जायेगी तथा नष्‍ट हो जायेगी। उनको कोई बचा नहीं सकता।

    60. बेनामी says:

      मैं परिवार नियोजन में मनुष्‍य के लिए भविष्‍य में बड़ी क्रांति की संभावनाएं देखता हूं।

    61. बेनामी says:

      इतना ही नहीं कि आप दो बच्‍चों पर रोक लेंगे अपने को, बल्‍कि अगर परिवार नियोजन की स्‍वीकृति उसका पूरा दर्शन हमारे ख्‍याल में आ जाये तो मनुष्‍य की पूरी नीति पूरा धर्म, अंतत: परिवार की पूरी व्‍यवस्‍था और अंतिम रूप से परिवार का पूरा ढांचा बदल जाएगा। कभी छोटी चीजें सब बदल देती है। जिनका हमें ख्‍याल नहीं होता।

    62. बेनामी says:

      मैं परिवार नियोजन और कृत्रिम साधनों के पक्ष में हूं, क्‍योंकि मैं अनंत: जीवन को चारों तरफ से क्रांति से गुजरा हुआ देखना चाहता हूं।

    63. बेनामी says:

      चीन से एक आदमी ने जर्मनी के एक विचारक को एक छोटी सी पेटी भेजी। लकड़ी की पेटी,बहुत खूबसूरत खुदाई थी उस पेटी पर। अपने मित्र को वह पेटी भेजी और लिखा कि मेरी एक शर्त है उसको ध्‍यान में रखना, इस पेटी का मुंह हमेशा पूर्व की तरफ रखना। क्‍योंकि यह पेटी हजार वर्ष पुरानी है और जिन-जिन लोगों के हाथ में गई है, यह शर्त उनके साथ रही है कि इसका मुंह पूर्व की तरफ रहे, यह इसे बनाने वाले की इच्‍छा है। अब तक पूरी की गई थी। इस का ध्‍यान रखना।

    64. बेनामी says:

      उसके मित्र ने लिख भेजा कि चाहे कुछ भी हो, वह पेटी का मुंह पूर्व की तरफ रखेगा। इसमें कठिनाई क्‍या है? लेकिन पेटी इतनी खूबसूरत थी कि जब उसने अपने बैठक खाने में पेटी का मुंह पूर्व की और करके रखा तो देखा कि पूरा बैठक खाना बेमेल हो गया। उसे पूरे बैठक खाने को बदलना पड़ा,फिर से आयोजितकरना पड़ा, सोफा बदलने पड़े,टेबल बदलने पड़े, फोटो बदलनी पड़ी। तो उसे हैरानी हुई कि कमरे के जो दरवाजे खिड़कियाँ थी। वे बेमेल हो गई। पर उसके पक्‍का आश्‍वासन दिया था तो उसने खिड़की दरवाजे भी बदल डाले। लेकिन वह कमरा अब पूरे मकान में बेमेल हो गया। तो उसने पूरा मकान बदल लिया। आश्‍वासन दिया था। तो उसे पूरा करना था। तब उसने पाया कि उसका बग़ीचा, बाहर का दृश्‍य फूल सब बेमेल हो गये। तब उसको उन सब को बदलना पडा।

    65. बेनामी says:

      फिर भी उसने अपने मित्र को लिखा कि मेरा घर मेरी बस्‍ती में बेमेल हुआ जा रहा है। इसलिए मैं बड़ी मुश्‍किल में पड़ गया हूं। अपने घर तक तो बदल सकता हूं, लेकिन पूरे गांव को कैसे बदलूंगा और गांव को बदलूंगा तो शायद वह सारी दुनिया बेमेल हो जाए। तो बड़ी मुश्‍किल हो जायेगी।

    66. बेनामी says:

      यह घटना बताती है कि एक छोटी सी बदलाहट अंतत: सब चीजों को बदल देती है।

    67. बेनामी says:

      धर्म गुरु का डरना ठीक है, वह डरा हुआ है। उसके कारण है। उसे अचेतन में यह बोध हो रहा है कि अगर संतति नियमन और परिवार नियोजन की व्‍यवस्‍था आ गई तो अब तक की परिवार की धारणा नीति सब बदल जायेगी।

    68. बेनामी says:

      और मैं क्‍यों पक्ष में हूं? क्‍योंकि मैं चाहता हूं कि वह जितनी जल्‍दी बदले, उतना ही अच्‍छा है। आदमी ने बहुत दुःख झेले लिए पुरानी व्‍यवस्‍था से, उसे नयी व्‍यवस्‍था चाहिए। जरूरी नहीं कि नयी व्‍यवस्‍था सुख ही लायेगी। लेकिन कम से कम पुराना दुःख तो न होगा। दुःख भी होगें तो नये होगें। और जो नये दुःख खोज सकता है, वह नये सुख भी खोज सकता है।

    69. बेनामी says:

      असल में नये की खोज की हिम्‍मत जुटानी जरूरी है। पूरे मनुष्‍य को नया करना है। और परिवार नियोजन और संतति नियमन केंद्रिय बन सकता है। क्‍योंकि सेक्‍स मनुष्‍य के जीवन में केंद्रिय है। हम उसकी बात करें या न करें। हम उसकी चर्चा करें या न करें, सेक्‍स मनुष्‍य के जीवन में केंद्रिय तत्‍व है। अगर उसमे कोई भी बदलाहट होती है तो हमारा पूरा धर्म पूरी नीति सब बदल जायेगी। वे बदल जानी ही चाहिए।

    70. बेनामी says:

      मनुष्‍य के भोजन निवास भविष्‍य की समस्‍याएं ही इससे बंधी नहीं है, मनुष्‍य की आत्‍मा मनुष्‍य की नैतिकता मनुष्‍य के भविष्‍य का धर्म मनुष्‍य के भविष्‍य का परमात्‍मा भी इस बात पर निर्भर है कि हम अपने यौन के संबंध में क्‍या दृष्‍टि कोण अख्तियार करते है।

    71. बेनामी says:

      ओशो

      संभोग से समाधि की और

      प्रवचन—9

      जनसंख्‍या विस्‍फोट

    Leave a Reply

    कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय संयमित भाषा का इस्तेमाल करे। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी। यदि आप इस लेख से सहमत है तो टिपण्णी देकर उत्साहवर्धन करे और यदि असहमत है तो अपनी असहमति का कारण अवश्य दे .... आभार