" मेरा पूरा प्रयास एक नयी शुरुआत करने का है। इस से विश्व- भर में मेरी आलोचना निश्चित है. लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता "

"ओशो ने अपने देश व पूरे विश्व को वह अंतर्दॄष्टि दी है जिस पर सबको गर्व होना चाहिए।"....... भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री, श्री चंद्रशेखर

"ओशो जैसे जागृत पुरुष समय से पहले आ जाते हैं। यह शुभ है कि युवा वर्ग में उनका साहित्य अधिक लोकप्रिय हो रहा है।" ...... के.आर. नारायणन, भारत के भूतपूर्व राष्ट्रपति,

"ओशो एक जागृत पुरुष हैं जो विकासशील चेतना के मुश्किल दौर में उबरने के लिये मानवता कि हर संभव सहायता कर रहे हैं।"...... दलाई लामा

"वे इस सदी के अत्यंत अनूठे और प्रबुद्ध आध्यात्मिकतावादी पुरुष हैं। उनकी व्याख्याएं बौद्ध-धर्म के सत्य का सार-सूत्र हैं।" ....... काज़ूयोशी कीनो, जापान में बौद्ध धर्म के आचार्य

"आज से कुछ ही वर्षों के भीतर ओशो का संदेश विश्वभर में सुनाई देगा। वे भारत में जन्में सर्वाधिक मौलिक विचारक हैं" ..... खुशवंत सिंह, लेखक और इतिहासकार

प्रकाशक : ओशो रजनीश | रविवार, जून 12, 2011 | 0 टिप्पणियाँ

अजहूँ चेत गंवार

(पिछले माह आवश्यक कार्य के कारण वेबसाइट को समय दे पाना संभव

नहीं हो पाया, जिससे पाठको को प्रवचन के शेष भागो को प्राप्त करने मे

परेशानी हुई, इसके लिए खेद है)

इस प्रवचन माला मे कुल मिला कर 20 प्रवचन है, जिसमे से 3 प्रवचन

आप को पहले ही दिये जा चुके है, बाकी के प्रवचन आपको यहा मिलेंगे .....

सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें _



*************************************************

डाऊनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें _

भाग 4


भाग 5


भाग 6

*************************************************

पाठको की मांग पर प्रवचन डाऊनलोड करने के लिए किसी प्रकार के पासवर्ड

का प्रयोग नहीं किया जा रहा है...

आप प्रवचन को सीधे डाऊनलोड कर सकते है


यदि आप को कोई असुविधा होती है तो इस पते पर ई-मेल करें :-

osho@oshorajneesh.in

Leave a Reply

कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय संयमित भाषा का इस्तेमाल करे। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी। यदि आप इस लेख से सहमत है तो टिपण्णी देकर उत्साहवर्धन करे और यदि असहमत है तो अपनी असहमति का कारण अवश्य दे .... आभार